आरोग्य मंदिर में श्रद्धालु तो कम हजारों की संख्या में आ रहे स्थानीय मरीज, बाढ के बाद मिल रही बड़ी राहत

वाराणसी। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के गेट नंबर चार छत्ताद्वार पर नयति द्वारा संचालित श्री काशी विश्वनाथ आरोग्य मंदिर की स्थापना श्रद्धालुओं को लेकर की गयी थी लेकिन में भारी तादात में स्थानीय लोग भी अपना इलाज कराने आ रहे हैं। दरअसल पिछले दिनों शहर में हुई भारी बारिश के बाद पेट सम्बन्धी बीमारियों गैस्ट्रोएंटेरिस्टिस (दस्त, उल्टी, बुखार और मतली), पैरों में फंगल इंफेक्शन एवं मौसमी बीमारियों के मरीज के लिए यह बड़ी राहत का सबब बन है। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के सीईओ विशाल सिंह ने कहा कि श्रीकाशी विश्वनाथ प्रांगण में नयती द्वारा संचालित मेडिकल यूनिट श्रद्धालुओं के लिए काफी कारगर साबित हो रहा है। श्रद्धालुओं को जरूरत पढ़ने पर स्वास्थ्य सेवा तत्पर मिल पा रही है। दूसरी तरफ नयति हैल्थकेयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने कहा कि हमें बाबा विश्वनाथ जी के आशीर्वाद से बाबा की नगरी में आने वाले श्रद्धालुओं एवं स्थानीय लोगों की सेवा करने का जो अवसर प्राप्त हुआ है उसके लिए मैं श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास की तहेदिल से आभारी हूं। आरोग्य मंदिर में पिछले एक सप्ताह में 2000 से अधिक मरीज स्वास्थ्य लाभ पा चुके हैं। इन मरीजों में देश विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं की अपेक्षा स्थानीय लोगों की संख्या अधिक है।

बद्रीनाथ के बाद बाबा विश्वनाथ

नीरा राडिया का कहना है कि हमारा हमेशा से मानना रहा है कि हम विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं के द्वारा लोगों की सेवा कर सके। इसकी शुरूआत हमने 2012 में बद्रीनाथ धाम से की और तब से लेकर अब हमारे आउट्रीच काम्प्स के जरिए हमने 10 लाख से ऊपर मरीजों तक निशुल्क स्वास्थ्य सेवाएँ पहुँचायी हैं! बाबा विश्वनाथ की नगरी में सेवा करना वास्तव में हम सभी के लिए ईश्वर का एक वरदान है। हम यहाँ सेवा भाव से आयें हैं और हम स्वास्थ्य और मानवता के लिए हमेशा लोगों कै बीच काम करता रहेगा।

Related posts