वाराणसी। पूर्वांचल की राजनीतिक बिसात पर ओमप्रकाश राजभर को टक्कर देने वाले बीजेपी के युवा नेता और यूपी में होमगार्ड मंत्री अनिल राजभर एक बार फिर से सुर्खियों में है। मिशन 2019 की तैयारियों में जुटे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंप सकते हैं। इसके तहत अगर उन्हें लोकसभा के सियासी समर में उतारने की तैयारी चल रही है। सिर्फ अनिल राजभर ही नहीं यूपी सरकार के कुछ और तेज-तर्रार मंत्रियों को भी लोकसभा चुनाव में उतारने की तैयारी चल रही है।

कट सकता है कई सांसदों का टिकट

सियासी गलियारे में इस बात जोरों से चल रही है कि यूपी के कई सांसदों के प्रदर्शन से पार्टी आलाकमान नाखुश है। कई ऐसे सांसद हैं जिनकी शिकायत अमित शाह तक पहुंची है। इनमें से कुछ सांसदों ने तो बकायदा सार्वजिनक तौर पर, पार्टी लाइन से बाहर जाकर बयानबाजी की। इसके अलावा कुछ ऐसे हैं जिन्होंने न तो अपने क्षेत्र में होने वाले विकास कार्यों में दिलचस्पी ली और ना ही पार्टी से जुड़े कार्यों में। मोदी लहर में जीतने वाले ये सांसद अब अमित शाह के रडार पर हैं। सूत्रों के मुताबिक कम से कम 40 सांसदों का टिकट कट सकता है। इनमें पूर्वांचल के भी कई सांसद शामिल हैं।

अनिल राजभर रेस में आगे

खबरों के मुताबिक टिकट कटने वाले सांसदों में कलराज मिश्र, मुरली मनोहर जोशी और भरत सिंह सरीखे दिग्गज भी शामिल हैं। इसके अलावा मऊ के सांसद हरिनारायण राजभर, सोनभद्र के सांसद छोटेलाल खरवार सहित कई सांसद शामिल हैं। इन सांसदों की जगह पर प्रदेश के तेज-तर्रार कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, श्रीकांत शर्मा, रीता बहुगुणा जोशी व राज्य मंत्री अनिल राजभर व स्वामी प्रसाद मौर्या की बेटी को पार्टी टिकट देने का मन बना रही है। बताया जा रहा है कि अमित शाह टिकट के दावेदार मंत्रियों को तैयारियों में जुट जाने का इशारा भी कर दिया है।

admin

No Comments

Leave a Comment