नई दिल्ली। मोहम्मदाबाद के भाजपा विधायक कृष्णानंद राय समेत सात लोगों की हत्या का मामला में इन दिनों पटियााला हाउस की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में चल रहा है। शुक्रवार को भी बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी, माफिया मुन्ना बजरंगी समेत तमाम आरोपित नहीं पहुंचे। अलबत्ता मुख्तार के बहनोई एजाज आये थे और हत्याकांड के समय अपनी दूसरे स्थान पर मौजूदगी के बाबत गवाहों को पेश किया। सवा दशक से पति के हत्यारोपितों के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ रही मोहम्मदाबाद की मौजूद विधायक अलका राय का कहना है कि मामले को लटकाने के प्रयास आरोपितों की तरफ से किये जा रहे हैं। वह जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ से मिल कर प्रार्थनापत्र देगी कि आरोपितों को प्रदेश की जेल से तिहाड़ शिफ्ट किया जाये जिससे वह सभी तारिख पर पहुंचे और जल्द मामले का निस्तारण हो।

निर्णायक मोड पर पहुंच चुका है मामला

गौरतलब है कि इस मामले में प्रदेश पुलिस के लचर रवैये पर अलका राय ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था जिसका नतीजा रहा कि विवेचना सीबीआई को सौंपी गयी और ट्रायल सूबे के बाहर होना तय हुआ। इस मामले में सीबीआई की तरफ से साक्ष्य दिये जा चुके हैं और बचाव पक्ष बयान मु्ल्जिम के संग अपने सबूत दे रहा है। बावजूद इसके कई तारिख पर आरोपितों के न आने से सुनवाई पर असर पड़ रहा है। विधायक अलका राय का तो यहां तक कहना है कि मेडिकल जेल से भिजवाने की जांच हो चुकी है और डाक्टरों के पैनल के फिट घोषित करन ेके बाद भी आरोपित कोर्ट नहीं आ रहे हैं। पार्टी फोरम और सीएम से गुहार लगाने के साथ वह कोर्ट में इस आशक या प्रार्थनापत्र देंगी कि पेशी सुनिश्चित करायी जाये।

admin

No Comments

Leave a Comment