वाराणसी। शादी का झांसा देकर जापानी महिला से रुपया ऐंठने के मामले में एडीजे (चतुर्थ) मोहम्मद गुलाम उल मदार ने गुरुवार को नदेसर (कैंट) निवासी मोहम्मद आरिफ की जमानत अर्जी खारिज कर दी। अभियोजन पक्ष के अनुसार मो. आरिफ ने खुद को अविवाहित बताते हुए एक जापानी महिला से कहा था कि उसकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है उसे कुछ रुपयों की आवश्यकता है। व्यापार ठीक होने पर उससे शादी कर लेगा। आरिफ की बातों पर भरोसा कर जापानी महिला ने उसे 3 हजार डॉलर यानी एक लाख रुपए दे दी। जापानी महिला उससे मिलने 27 मार्च 2018 को यहां पहुंची। इस दौरान उसे जानकारी हुई कि मो. आरिफ शादीशुदा है और तीन बच्चों का बाप है। इस पर जब महिला अपनी रुपयों की मांग करने लगी तो आरिफ ने उसे जान से मारने की धमकी देने लगा।

नहीं चली बचाव पक्ष की दलीलें

अदालत में बचाव पक्ष की ओर से यह दलील दी गई कि उसने महिला से धोखाधड़ी नहीं किया है। बल्कि उससे रुपया ऐंठने के लिए फर्जी मुकदमा दर्ज कराया गया है। दूसरी तरफ अभियोजन पक्ष ने जमानत का विरोध करते हुए तर्क दिया कि विदेशी महिला को शादी का झांसा देकर उससे तीन हजार डॉलर ऐंठ लिया और वापस मांगने पर धमकी देने लगा। अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने और पत्रावलियों के अवलोकन के बाद आरोपी की जमानत अर्जी यह कहकर खारिज कर दी कि विदेशी महिला से छल कर रुपया ऐंठने और वापस मांगने पर धमकी देने से न केवल आरोपी की बल्कि राष्ट्र की भी छवि प्रभावित होती है। इन परिस्थितियों में आरोपी का अपराध जघन्य और राष्ट्र हित के विरुद्ध है। अपराध की गंभीरता को देखते हुए अदालत ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

admin

No Comments

Leave a Comment