मऊ। निकाय चुनाव को लेकर तैयारियां जोरो पर है। मऊ नगर पालिका को लेकर समाजवादी पार्टी ने पत्ते खोल दिए हैं। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने मुख्तार अंसारी को उनके ही गढ़ में घेरने के लिए अरशद जमाल को फिर से मैदान में उतारा है। अरशद जमाल ने खुद इसकी पुष्टि की है। अरशद जमाल की पत्नी फिलहाल नगर पालिका चेयरमैन हैं।

मुख्तार और अरशद जमाल में है छत्तीस का आंकड़ा

मऊ की सियासत में अरशद जमाल की पहचान मुख्तार अंसारी के बड़े राजनीतिक प्रतिद्वंदी के तौर पर होती है। एक ओर विधानसभा सीट पर लंबे समय से मुख्तार का दबदबा है तो वहीं नगर पंचायत चुनाव में अरशद जमाल की तूती बोलती है। निकाय चुनाव में अरशद जमाल के तिलिस्म को तोड़ने के लिए मुख्तार अंसारी ने पूरी ताकत झोंक दी, लेकिन कामयाबी नहीं मिल पाई। अरशद जमाल को घेरने में इस बार भी अंसारी परिवार लगा हुआ है लेकिन अरशद बेपरवाह नजर आ रहे हैं।

विधानसभा चुनाव में अरशद बने थे रोड़ा

विधानसभा चुनाव के दौरान भी अरशद बाहुबली मुख्तार की राह में रोड़ा बने हुए थे। सपा प्रत्याशी अल्ताफ अंसारी के लिए अरशद ने जमकर प्रचार किया था। यही नहीं कई ऐसे वाक्ये सामने आए जब अरशद ने मुख्तार अंसारी का खुलकर विरोध किया। ऐसे में साफ है नगर पालिका चुनाव में दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है। माना जा रहा है बीएसपी अरशद के मुकाबले तैयब पालकी को मैदान में उतारेगी। पर्दे के पीछे सब कुछ तय है बस ऐलान होना  बाकी है। मुख्तार खेमा इस बार अरशद जमाल से बदला लेने के लिए तैयार दिख रहा है। वहीं अरशद जमाल को उम्मीद है कि विधानसभा चुनाव के उलट इस बार मऊ की जनता सपा का साथ देगी।

admin

No Comments

Leave a Comment