वाराणसी। गंगा में क्रूज चलाने के खिलाफ चलाया जा रहा आंदोलन समाप्त हो चुका है। कांग्रेस के नेताओं ने पहले ही आंदोलन को समर्थन देकर उन्हें लुभाया था। अब इसमें सपा भी कूद पड़ी है। वजह, पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में उन्हें घेरने का कोई मौका अखिलेश चूकना नहीं चाहते। यही कारण था कि भेजे गये प्रतिनिधि मंडल में सांसद से लेकर विधायक तक भेजे गये थे। शनिवार को आरपी घाट पर बैठक कर प्रदेश सरकार को खरी-खरी सुनायी गयी। कहा गंगा नदी में उप्र सरकार द्वारा क्रूज संचालन से पारम्परिक रूप से नाव चलाकर जीवकोपार्जन करने वाले निषाद, मल्लाह, साहनी, बिंद, कश्यप आदि मछुआरे समाज की रोजी रोटी छिनने सरीखा है। नाविक संगठनों के प्रमुख पदाधिकारियों व सपा के प्रतिनिधिमंडल की बैठक लगभग 2 घण्टे चली। समस्त नाविक संगठनों ने सरकार द्वारा क्रूज संचलन को गरीबों के मुँह का निवाला छिनने वाला कदम बताते हुए इसके संचालन की स्थायी रूप से समाप्त करने की पुरजोर मांग किया।

डीएम से वार्ता कर मांगी रिपोर्ट

नाविकों को संबोधित करते हुए सपा के विधानपरिषद सदस्य डा. राजपाल कश्यप ने कहा कि मेरा भी जन्म गरीब मल्लाह परिवार में हुआ है इसलिए मैं मछुआरा समाज की वेदना को अच्छी तरह समझ रहा हूँ, अनादिकाल से मछुआरों के पास अपने परिवार के भरणपोषण के लिए नदियों में नाव चलाना ही एकमात्र धंधा है, सरकारी स्तर पर क्रूज संचालन को गरीब विरोधी कदम बताते हुए, वहीं डीएम से टेलीफोन से वार्ता कर शासन से इस नीति को वापस करने के लिए जिला प्रशासन स्तर पर शासन को रिपोर्ट पेश करने को कहा ताकि गरीबों के पेट पर लात न पड़े और जीवकोपार्जन की समस्या का सामना न करना पड़े। अखिलेश के संदेश को मछुआरा समाज के प्रतिनिधियों को बताते हुए कहा कि उन्होंने आपके दर्द को समझा है और कहा है कि इस बुनियादी संघर्ष में समाजवादी पार्टी पूरे तौर पर आपसब के साथ है जरूर पड़ने पर सड़क से लेकर सदन तक समाजवादी पार्टी हर स्तर पर सहयोग करेगी। गोरखपुर सांसद प्रवीण निषाद जी ने कहा कि सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद ने वाराणसी में रोजी रोटी के लिए आंदोलनरत मछुआरे समाज के मांग को राज्यसभा में उठाया था। मैंने भी लोकसभा में तथ्यगत प्रश्न पूछकर स्पष्टीकरण मांगा है और मेरी मांग है कि यदि पर्यटन के दृष्टिकोण से आधुनिक नाव चलाना भी हो तो सरकार को ये काम नाविक समुदाय को देना चाहिए ताकि इस गरीब समुदाय के सामने रोजीरोटी की समस्या उत्पन्न न हो।

इनकी रही मौजूदगी

प्रतिनिधिमंडल में पूर्व सांसद श्री रामकिशन यादव , पूर्व विधायक द्वय राजनारायण बिंद, सुरेन्द्र सिंह पटेल, सपा जिला/ महानगर अध्यक्ष डा.पीयूष यादव व राजकुमार जायसवाल, पिछड़ावर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव श्री मुरारी कश्यप शामिल थे। सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को सम्बोधित सात सूत्रीय मांगपत्र को नाविकों के सांझा संघर्ष समिति के सदस्य सर्वश्री प्रदीप साहनी सोनू, प्रमोद मांझी, मुरारी कश्यप, शम्भू साहनी, बनारसी प्रधान, अशोक साहनी, तन्ना साहनी, मोहनलाल प्रधान, कन्हैयालाल साहनी आदि ने सपा प्रतिनिधि मंडल को सौंपा ताकि उच्चस्तर पर सरकार द्वारा इस मूलभूत समस्या के स्थायी समाधान का मार्ग प्रशस्त हो सके।

admin

No Comments

Leave a Comment