वाराणसी। आगामी लोकसभा चुनाव से पहले आस्तित्व की लड़ाई लड़ रही कांग्रेस पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में अपनी पूरी ताकत झोंक चुकी है। देश भर से नेता प्रचार के लिए बुलाये भी जा रहे हैं और केन्द्रीय नेतृत्व को अपना चेहरा दिखाने की खातिर खुद भी पहुंच रहे हैं। इस समय राजस्थान में चुनावी समर अंतिम दौर में है और उदयपुर में कैंप कर रहे पूर्व विधायक अजय राय ने सीएम योगी पर जुबानी हमला बोला है। उनका कहना था कि हमारे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि हनुमान जी दलित देवता हैं। अत: एक धार्मिक पीठ के महन्थ के साथ सत्ता-शक्ति सामर्थ्यवान मुख्यमंत्री होने के नाते उनसे हमारी दो विनम्र मांगें हैं।

हनुमान मंदिरों के संग गोरक्षपीठ को लेकर डिमांड

अजय राय की पहली मांग है कि देश और विशेष रूप से उत्तर प्रदेश में कम से कम हनुमान मंदिरों का स्वामित्व-प्रबंध और दर्शन-पूजन आदि कराने का अधिकार एवं काम दलित समाज के लोगों को दिला दें। इसके साथ दूसरी मांग है कि जिस पीठ के वह महंथ हैं, उसे वह दलित समाज की निषाद जाति के लोगों को सौंप दें, क्योंकि वह पीठ नाथ संप्रदाय एवं हठयोग के संस्थापक एवं दलित समाज की निषाद बिरादरी में कामरूप जिले में जन्मे मछेन्दरनाथ जैसे महान संत की है, जिसे जाति विशेष की महंथ परंपरा ने कब्जा कर लिया है। यह करके वह साबित करेंगे कि चुनाव सभाओं में हनुमानजी के लिये उनका कथन दलित समाज के प्रति भी उनके मन में हनुमानजी की तरह ही पूज्यभाव रखता है, अन्यथा उनका कथन लोगों की आस्थाओं से राजनीतिक खिलवाड़ का एक चुनावी जुमला ही माना जायेगा।

admin

No Comments

Leave a Comment