वाराणसी। पूर्वांचल में मुख कैंसर के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। वजह, पान-खैनी के रूप में तंबाकू का अत्याधिक इस्तेमाल। विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर गुरुवार को इंडियन डेंटल एसोसिएशन (आईडीए) की वाराणसी शाखा ने लोगों को जागरूक करने की खातिर अभियान चलाया। अस्सी घाट पर रोजाना होने वाले सुबह-ए-बनारस कार्यक्रम में तम्बाकू संबंधित बीमारियों की जानकारी एवं इसके दुष्प्रभाव को लेकर लोगों को सचेत किया गया। आईडीए वाराणसी के सचिव डा. आलोक सिंह ने सभी को शपथ दिलायी कि आज से हम अपने जीवन में तम्बाकू को पूर्णत: निषिद्ध करेंगे और स्वच्छ मुख अभियान का नारा बुलंद करेंगे।

समाज के लिए चिंता का विषय

कार्यक्रम मेंं बीएचयू के पूर्व डीन डा. टीपी चतुर्वेदी ने लोगों को तम्बाकू के दुष्प्रभावों पर चेताया। उनका कहना था कि तम्बाकू से मुख कैंसर के बढ़ते मामले निश्चित ही पूरे समाज के लिए चिंता का विषय है। वास्तव में यही समय इसकी रोकथाम एवं जागरूकता को युद्धस्तर पर करने का है। कार्यक्रम में आईडीए के वाराणसी शाखा के अध्यक्ष डा. नीरज सोनी, डा. अमर अनुपम ,डा. विनीत सिंह, डा. प्रवीण कुमार,डा. सीडी द्विवेदी, डा. देवेंद्र चड्ढा, डा. आशुतोष द्विवेदी, डा. जसलोक, डा. संजय सिंह, डा. मधुरेन्द्र, डॉ अतुल सिंह, डा. पूनम निगम समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

admin

No Comments

Leave a Comment