वाराणसी। पिछले दिनों कानून-व्यवस्था की समीक्षा के दौरान सीएम योगी ने भूमाफिया के खिलाफ कार्रवाई न होने पर फटकार लगाते हुए उनकी नकेल कसने के आदेश दिये थे। सीएम के निर्देशों का असर सोमवार को एंटी भू-माफिया की बैठक में देखने को मिला। कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने अभियान चलाकर भू-माफियाओं के चंगुल से सार्वजनिक भूमि को मुक्त कराये जाने के साथ ही ऐसे लोगो के विरूद्व कड़ी कार्यवाही किये जाने का निर्देश दिया है। उन्होने सार्वजनिक एवं निजी भूखण्डों पर भू-माफियाओं द्वारा अवैध कब्जा से संबंधित लोक शिकायत, जनसुनवाई पोर्टल सहित डीएम व एसएसपी के पास सीधे प्राप्त होने वाले शिकायती प्रार्थना पत्रों को गम्भीरता से लेते हुए तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित कराये जाने पर विशेष जोर दिया। चिन्हिंत टॉप 10 एवं 5 बड़े अवैध कब्जेदारो के विरूद्व अभियान चलाकर कार्यवाही किये जाने का निर्देश दिया। गौरतलब है कि इस सूची में कई चर्चित सफेदपोश शामिल हैं जिनके खिलाफ कार्रवाई का हौसला कोई नहीं जुटा पाता।

डीएम व एसएसपी की सूची में भिन्नता

एंटी भू-माफियाओं पर किये जाने वाले कार्यवाही से संबंधित डीएम एवं एसएसपी आफिस से मिलने वाले सूचनाओं में भिन्नता होने पर नाराजगी जताते हुए सही सूचनायें उपलब्ध कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने राजस्व परिषद के पोर्टल पर एंटी भू-माफिया संबंधी रिर्पोंट के नियमित तरीके से फीडिग किये जाने का भी निर्देश दिया। कमिश्नर ने सिचाई, वन, कृषि, लोक निर्माण विभाग सहित कई विभागो द्वारा निर्देश के बावजूद अपने-अपने विभाग का सम्पत्ति रजिस्टर न बनाये जाने पर नाराजगी जताते हुए शीघ्र सम्पत्ति रजिस्टर बनाये जाने का निर्देश दिया। बैठक में आईजी रेंज दीपक रतन, डीएम गाजीपुर के बालाजी, अपर आयुक्त प्रशासन ओमप्रकाश चौबे, एसएसपी वाराणसी आरके भारद्वाज, एसपी चन्दौली संतोष सिंह सहित अन्य अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

admin

No Comments

Leave a Comment