वाराणसी। नेवादा (लंका) स्थित केयर हास्पिटल में गुरुवार की देर शाम डाक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाकर तोड़फोड़ के संग जमकर हंगामा किया गया। सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची तो मामला विभागीय का निकला। दरअसल मीरजापुर में तैनात दरोगा की पत्नी ने पुत्री के छत से गिरने के बाद हंगामा कराया था। लंका थाने पहुंचने के बाद छेड़खानी और छिनैती सरीखे पुलिसिया दांव भी चल दिये। सीसी फुटेज में वस्तुस्थिति स्पष्ट होते देख अरोप लगाने वाले बैकफुट पर आ गये। इस बीच बवाल की जानकारी मिलने पर आईएमए अध्यक्ष डा. अरविन्द सिंह और सचिव डा. मनीषा समेत बड़ी संख्या में डाक्टर पहुंच गये। बहरहाल मामला फंसते देख पुलिस क्रास एफआईआर की बात कह रही थी।
ओटी में डाक्टर, फौरन देखने की थी मांग
इसी थाना क्षेत्र के करमनजीतपुर-सुन्दरपुर की मोनिका (3) छत से गिरकर घायल हो गयी थी। मोनिका को लेकर उसकी नानी उषा देवी नेवादा स्थित केयर हॉस्पिटल पहुंची जहां डॉक्टरों को देर से इलाज के लिए रोकने पर परिजनों ने अस्पताल की आईसीयू में तोड़फोड़ कर दी। डाक्टर पक्ष का कहना है कि डा. मृगेन्द्र राय ओटी में थे जिसके कारण तत्काल देख नही पाए। बच्ची की हालत स्थिर थी लेकिन बवाल करने वालों ने मौत का आरोप लगाते हुए तोड़फोड़ की और मरीज को दूसरे अस्पताल में भर्ती कराये है। घटना की सूचना पर पहुंची लंका पुलिस दोनों पक्षो को थाने ले गयी। इस पर डॉक्टरों की टीम और आईएमए के पदाधिकारी लंका थाने पहुंच गए। आरोप है कि तोड़फोड़ करने वाले दरोगा रामकृत यादव से जुड़े हैं जिसके चलते लंका पुलिस डॉक्टर मृगेंद्र राय को थाने ले आयी है। दोनों पक्षो से तहरीर लंका थाने पर दी गयी। डाक्टर पक्ष की तरफ से कर्मचारी अरविंद और नीरज ने अस्पताल में तोड़फोड़ और मारपीट धमकी की तहरीर दी जबकि दूसरे पक्ष की तरफ से अस्पताल में बंधक बनाकर मारपीट की तहरीर दी गयी है। देर रात तक दोनों पक्ष थाने पर जमे हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment