बलिया। काजल की मौत खुदकुशी नहीं थी बल्कि गला घोंट कर उसे मारा गया था। यह चौंकाने वाला खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हुआ है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद हास्पिटल में भर्ती कराने से लेकर जहर खाने तक के दावे खोखेले साबित हुए। एसओ मनियर चंद्रभान यादव के मुताबिक हारर किलिंग के सबूत मिलने पर काजल के दादा राज नारायण सिंह, भाई विनीत कुमार सिंह उर्फ गोलू तथा शव को टैंपू में लादकर छिपाने में सहयोग करने वाले मुन्ना यादव को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। इससे पहले काजल की सौतेली मां सुमिता सिंह उर्फ करिश्मा ने मनियर थाने में आरोपियों के विरुद्ध तहरीर दी थी।

तीन दिन बाद मिली दूसरी लाश

गौरतलब है कि मंगलवार को घोघा चट्टी (मनियर) के पास दह ताल के किनारे एक किशोरी का शव मिला था। शुक्रवार को वहीं पर एक युवक की भी लाख मिली। वहां से गुजर रहे सीओ बांसडीह टीएन दूबे की नजर लोगों की भीड़ पर जब पड़ी तो माजरा समझने के लिए वे पुल के पास चले गए। वहीं से उन्होंने मनियर व बांसडीह थाने की पुलिस को सूचना दिये। मौके पर इंस्पेक्टर बांसडीह संजय कुमार त्रिपाठी व एसओ मनियर चंद्रभान यादव ने पहुंचकर पानी से शव को बाहर निकलवाया। कुछ देर बाद एसपी श्रीपर्णा गांगुली एवं एएसपी विजय पाल सिंह भी पहुंच गये। शव की शिनाख्त करने की काफी कोशिश की गई, लेकिन तत्काल शिनाख्त नहीं हो पाई। काफी देर बाद शिनाख्त प्रिंस कुमार सिंह निवासी गायघाट (रेवती) के रूप में की गई। लड़के के पिता सूर्य प्रताप सिंह ने पीएम हाउस पहुंचकर शव की शिनाख्त की। थानाध्यक्ष मनियर चंद्रभान यादव ने बताया कि इस मामले को काजल हत्याकांड से जोड़कर देखा जा रहा है। प्रिंस कुमार सिंह काजल का फुफेरा भाई है।

पहले भी परिवार में हुई हैं सदिग्ध मौतें

शिवपुर नई बस्ती (बेयासी) हारर किलिंग में हुई काजल की हत्या उसके परिवार में पहली नहीं है। इसके पहले भी काजल की मां मंजू देवी की फांसी पर झूलने से एवं काजल की बुआ नीलम देवी की आग से जलने से मौत हो चुकी है। यह दावे मनियर थाने पर पहुंची काजल की सौतेली मां सुमिता सिंह उर्फ करिश्मा तथा मौसेरे भाई अनुज कुमार सिंह ने किया। अलबत्ता वादिनी सुमिता सिंह ने अपनी सास फुलेश्वरी देवी को ही घर में अशांति फैलाने की सारी जड़ बतायी। सुमिता सिंह ने कहा कि सास के कहने पर परिवार के लोग किसी न किसी बात को लेकर काजल को प्रताड़ित करते थे । डेढ़ महीने पूर्व काजल फोन पर मुझसे मिलकर मेरे साथ रहने की इच्छा जताई थी। सुमिता सिंह का आरोप है कि मेरी सास मेरे पति राजकुमार सिंह से मिलकर मुझे तलाक देने के लिए कोर्ट में बाद भी दाखिल करायी थी। बाद में मेरे पति द्वारा कोर्ट से मुकदमा उठा लिया गया।

admin

No Comments

Leave a Comment