वाराणसी। जल निगम के जेई और ठेकेदारों पर जानलेवा हमले के मामले को पीएमओ से लेकर सीएम सचिवालय ने गंभीरता से लिया है। मंगलवार की देर रात वाराणसी में जानलेवा हमले के शिकार हुए जल निगम के जेई सुशील कुमार गुप्ता की दशा गुरुवार को अत्यधिक चिन्ताजनक होने पर एयर एंबुलेंस से एम्स दिल्ली भेजा गया। इसकी खातिर ट्रैफिक पुलिस ने बीएचयू ट्रामा सेंटर से बाबतपुर एयरपोर्ट तक ग्रीन कॉरिडोर तैयार किया था। थाने से कुछ दूरी पर हुई दुस्साहसिक वारदात के बाद सवालों के दायरे में आयी लंका ने पुलिस ने अब सात आरोपितों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। एसएसपी आरके भारद्वाज के मुताबिक आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच व लंका पुलिस सहित पांच टीमें को लगाया गया है। सीसीटीवी फुटेज की मदद से पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर उनसे मिली जानकारी पर दो अन्य को धर-दबोचा गया। शेष आरोपितों की तलाश में छापामारी चल रही है।

हड़ताल पर गये अधिकारी कर्मचारी

जेई व दो ठेकेदारों पर प्राणघातक हमले में शामिल आरोपितों के गिरफ्तारी की मांग को लेकर जलनिगम के अभियंता और कर्मचारी गुरुवार को हड़ताल पर चल गए हैं। जलनिगम के कर्मचारियों ने भगवानपुर स्थित कार्यालय पर धरना प्रदर्शन के साथ सभी जगह काम ठप करा दिया है। शुरू कर दिया। आलोचना झेल रही लंका पुलिस की सफाई थी कि हमलावरों में शामिल आरोपितों को बुधवार ही सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की मदद से चिह्नित कर लिया गया था। समीप स्थित दो निजी हास्टलों में रहे वाले 17 युवकों में 11 को आरोपित बनाया गया है।

admin

No Comments

Leave a Comment