बलिया। पिछले काफी समय से भासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश कैबिनेट में मंत्री ओमप्रकाश राजभर सरकार और सीएम पर हमला कर रहे हैं। इनकी तर्ज पर पार्टी के दूसरे नेताओं ने भी विवादित बयान देने शुरू कर दिये हैं। भासपा के प्रदेश अध्यक्ष आनंद मिश्रा ने शुक्रवार को जनसंपर्क करने के बाद सिकंदरपुर में मीडिया से वार्ता के दौरान कहा कि 2019 के पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को हटाकर किसी पिछड़ी जाति का मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया तो 2019 में भाजपा 73 सीट से 3 सीट पर सिमट जाएगी। आज भासपा व भाजपा कार्यकतार्ओं की बात थाना तहसील व ब्लाक पर नहीं सुनी जा रही है। आम कार्यकर्ता भी किसी कार्य के लिए जा रहा है तो उससे पैसा लिया जा रहा है। आवास के नाम पर खुलेआम 30 हजार रुपये की वसूली की जा रही है। जिसके पास आवास है उसी को आवास दिया जा रहा है।

मनमुताबिक सीट नहीं मिली तो गठबंधन धर्म पर विचार

प्रदेश अध्यक्ष का कहना था कि बिहार और गुजरात में भाजपा की सरकार होने के बाद वहां शराब बंद हो सकती है तो उत्तर प्रदेश में शराब क्यों नहीं बंद हो सकता है। इसी सवाल को लेकर भासपा आगामी 20 मई को बलिया टीडी कॉलेज के मैदान में महिला सम्मेलन करने जा रही है जिसमें लाखों की संख्या में महिलाएं शामिल होंगी। लोकसभा चुनाव में सीटों को लेकर गतिरोध होने के सवाल पर कहा कि गलत नीतियों का हमारी पार्टी हमेशा विरोध करती रहेगी। अगर सरकार को हमको हटाना है तो हटा दें उसे भी पता चल जाएगा। हमारे लिए तो सभी विकल्प खुले हुए हैं। अगर सीट नहीं मिली तो गठबंधन धर्म पर हमारी पार्टी भी विचार कर सकती है। आज हमारी पार्टी पिछड़ी जाति के 27% आरक्षण में बंटवारा चाहती है। पार्टी का मानना है कि तीन कैटेगरी में आरक्षण का बंटवारा होना चाहिए ताकि अति पिछड़ा अति दलितों को उनका वाजिब हक मिल सके।

admin

No Comments

Leave a Comment