शिनाख्त के बाद अज्ञात युवती की लाश मिलने के मामला बढ़ रहा हॉरर कीलिंग की ओर! पुलिस कुछ कहने से बच रही

गाजीपुर। ढेबुवां चट्टी (बिरनो) में शनिवार को मिली सिरकूंची युवती के शव की शिनाख्त रविवार को परिजनों ने अस्पताल पहुंचकर की। पुलिस की सूचना, कपड़ों तो देख परिजनों ने बेटी को पहचान लिया। फिलहाल पुलिस ने अपहरण, हत्या और दहशत फैलाने का मुकदमा दर्ज किया है लेकिन आरम्भि जांच के बाद मामले के तार हारर कीलिंग से जुड़ते दिख रहे हैं। सिर इस तरह से कूंचा गया था कि शिनाख्त न हो सके और मामला पुलिस की फाइल में दफन हो जाये लेकिन ऐसा होते नहीं दिख रहा है। कुछ ऐसे सुराग मिले हैं जिसके बाबत पुलिस बोलने से बच रही है लेकिन सूत्रों का कहना है कि जल्द मामले का खुलासा हो सकत है।

मोबाइल से मिली लोकेशन शिनाख्त का आधार

मुस्तफाबाद निवासी सैय्यद इरफान की पुत्री अलीशा (27) रूहीपुर डिग्री कालेज से बीटीसी कर रही थी। शुक्रवार को कालेज से निकलते हुए उसने मां को फोन कर रास्ते में होने की बात बताई थी। इसके बाद अलीशा का घर आना तो दूर मोबाइल भी स्विच आॅफ हो गया। तलाश के बावजूद जब सुराग नहीं लगा तो पिता ने शनिवार को कोतवाली में गुमशुदगी की सूचना दी। पुलिस ने मोबाइल को सर्विलास पर लगाया तो लोकेशन बिरनो-मरदह क्षेत्र में मिली। इलाके में मिले अज्ञात शव के हुलिये के आधार पर पुलिस ने देर रात परिजनों को शिनाख्त के लिए बुलाया। जूड़ा और कपड़े देखकर पिता ने बेटी अलीशा को पहचान लिया। पुलिस का मानना है कि मामला केवल हत्या का नहीं बल्कि अपहरण के बाद हत्या का है। एसओ बिरनो वसीम अहमद ने बताया कि कालेज से आते समय अलीशा का अपहरण कर आजमगढ़ रोड पर ले जाकर हत्या की गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर अन्य बातें भी सामने आएंगी।

अज्ञात के खिलाफ दर्ज है मामला

गांववालों ने चट्टी के करीब मौजूद झाड़ी में एक युवती के शव को देखा जिसके गला रेता गया था। पूरे क्षेत्र में जंगल की आग की तरह खबर फैल गई। सूचना मिलने के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। मृतका का चेहरा पहचान में नहीं आ रहा था। पुलिस ने शव को मर्चरी हाउस में रखवा दिया था। अलीशा के पिता सैयद इरफान का पुलिस से कहना था कि बेटी रोजाना आटो से कालेज जाती थी। उन्होंने दो युवकों पर वारदात का शक जताते हुए फिलहाल अज्ञात हत्यारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

Related posts