कमिश्नरी में शांति कमेटियों की बड़ी बैठक में एडीजी ने सुनायी खरी-खरी, अयोध्या मामले में फैसले को लेकर अधिकारियों ने चेताया

वाराणसी। आज के समय में सोशल मीडिया पर युवा वर्ग बच्चे कुछ भी मैसेज डाल देते हैं। आप सब उन्हे बतायें कि वे किसी भी तरह की आपत्तिजनक तथ्य न लिखें और न कोई मैसेज फारवर्ड करें। सोशल मीडिया की मानीटरिंग की जा रही है। किसी को भी यह स्वतंत्रता नहीं होगी कि वह किसी भी तरह विरोध अथवा पक्ष में किसी प्रकार का प्रदर्शन सड़कों पर दिखाए। एडीजी जोन बृजभूषण ने इसी माह अयोध्या राम मंदिर के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले को ध्यान में रखते हुए कानून व्यवस्था एवं सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के संबंध में कमिश्नरी सभागार में गुरुवार को आयोजित शांति समिति की बैठक में खरी-खरी सुनायी। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि दो-चार ही स्वार्थी तत्व होते हैं जो माहौल बिगाड़ कर सबके लिए परेशानी खड़ी करते हैं। अच्छे लोगों की यह जिम्मेदारी है कि वह उन्हें जागरूक करें, मोहल्ले गांव में जाकर लोगो को समझायें। जिससे अमन चैन बना रहे और पुलिस की जरूरत ही न पड़े।

काशी गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल

कमिश्नर ने कहा कि काशी गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल है। यहां लोग काफी जागरूक एवं संवेदनशील हैं। कानून व्यवस्था से खिलवाड़ किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सुरक्षा के मुकम्मल इंतजाम सुनिश्चित कराए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत का संविधान ऐसा है कि किसी का भेदभाव नहीं करता। संवेदनशील शब्द पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यदि हम स्वयं संवेदनशील हैं तो संवेदनशील का कोई मतलब नहीं। युवा वर्ग अपनी सोच संतुलित रखें, जोश में होश न खोएं। आप अपनें अपने क्षेत्रों की जिम्मेदारी लेकर लोगों के बीच जायें। आईजी विजय सिंह मीणा ने कहा कि किसी शहर का माहौल बनने में बरसों लग जाते हैं लेकिन बिगड़ने में समय नहीं लगता और कुछ लोगों की नादानी से समाज का ताना-बाना बिखर जाता है। उन्होंने कहा कि मोअज्जिÞज लोगों की नाम से पुलिस के साथ ड्यूटी लगाई जाएगी वे भी मुहल्लों चौराहों पर साथ रहेंगे। आप हमेशा कंधे से कंधा मिलाकर हमारे साथ हर त्योहार व मुश्किल समय में चले हैं।आप बिना वर्दी की पुलिस हैं जो वदीर्धारी पुलिस का साथ दिया है।

सबकी बेहतरी के लिए जुटे हैं सभी

डीएम कौशल राज शर्मा ने कहां की सबकी बेहतरी के लिए आज हम इकट्ठा हुए है। अपने भाईचारे पर कोई असर न आने दें। मुश्किल घड़ी में हमें धर्म ने जो सिखाया उसे भूल जाते हैं। इन्सानियत के धर्म का पालन करें ये हम सबका इम्तहान है, मोक्ष, जन्नत तभी मिलेगी जब एक दूसरे की दुआएं हम लेंगे। आसपास के ही गिनती के लोग उन्माद फैलाते हैं और गल्ती करने के बाद जीवन भर आंख नहीं मिला पाते और मुंह छिपाते हैं। जहां कम मुस्लिम भाई रहते हैं वहां हिन्दू भाई उनकी जिम्मेदारी लें और जहां कम हिन्दू भाई रहते हों वहां मुस्लिम भाई लोग हिन्दू भाइयों के परिवारों की जिम्मेदारी लें। किसी तरह भी आपके ऊपर आंच नहीं आने देंगे। जिम्मेदार लोग जिम्मेदारी नहीं लेते तो गैर जिम्मेदार मौका का फायदा उठा कर हिंसा करते हैं। बैठक में एसएसपी प्रभाकर चौधरी, एडीएम सिटी विनय कुमार सिंह, एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह सहित शांति समिति के पदाधिकारी व सदस्य लोग उपस्थित रहे।

Related posts