लखनऊ। केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की छोटी बहन और उनकी राजनीतिक प्रतिद्वंदी पल्लवी पटेल और उनके पति पंकज सिंह कानूनी शिकंजे में फंस गए हैं। इन दोनों समेत पांच लोगों के खिलाफ शुक्रवार को गोमतीनगर थाने में जालसाजी सहित दस धाराओं में केस दर्ज किया गया। आरोप है कि कुख्यात अपराधी ददुआ के रिश्तेदार के साथ मिलकर पल्लवी ने गोमतीनगर में फ्लैट पर कब्जा कर लिया और विरोध करने पर फ्लैट मालिक को जान से मारने की धमकी दी।

इसकी शिकायत फतेहपुर निवासी बिल्डर पंकज त्रिपाठी ने की है। थाने में तहरीर देकर बताया कि 2013 में उन्होंने विवेक खंड स्थित मंगलम अपार्टमेंट में फ्लैट खरीदा था। इस फ्लैट में उन्होंने फतेहपुर निवासी परिचित पंकज सिंह को रहने के लिए एक कमरा दिया था। छह महीने पहले कमरा खाली करने को कहा तो पंकज बात को टालने लगा। कुछ दिनों बाद पल्लवी भी पंकज के साथ उसी फ्लैट में रहने लगी। पंकज त्रिपाठी ने बताया कि जब वो फ्लैट खाली कराने पहुंचा तो पल्लवी आपत्ति करने लगी। आरोप है कि पल्लवी ने जान से मरवाने की धमकी दी। साथ ही कहा कि ददुआ मरे हैं, उनके लोग अभी भी जिंदा हैं। फ्लैट छोड़ दो वरना ददुआ के लोग जो करेंगे, भूल नहीं पाओगे। इस बीच तीन युवकों ने उनको असलहा दिखाकर भाग जाने को कहा।

पल्लवी ने कहा, अच्छा होगा कि फ्लैट भूल जाओ
बिल्डर पंकज त्रिपाठी ने बताया कि पल्लवी पटेल ने जब मेरे फ्लैट पर कब्जा कर लिया तो मैं पुलिस में शिकायत करने गया। लेकिन पुलिस ने मेरी सुनवाई नहीं की। उल्टा मेरे ही ऊपर पल्लवी पटेल और उनके पति ने फ्लैट में घुस कर मारपीट करने का मुकदमा दर्ज करवा दिया। जिसके बाद मैं कोर्ट गया, जहां से पिछले हफ्ते एफआईआर करने का आदेश पुलिस को किया गया है। तब जाकर पुलिस ने मामला दर्ज किया। पंकज त्रिपाठी का आरोप है कि पल्लवी कहती हैं कि मैं केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की सगी बहन हूं। हमने फ्लैट के कागजात तैयार करवा लिए हैं, जितना जल्दी फ्लैट भूल जाओगे, उतना अच्छा है। पंकज की तहरीर पर गोमतीनगर पुलिस ने पल्लवी पटेल उनके पति पंकज सिंह और विशाल तिवारी, देवेंद्र प्रताप सिंह व विजय प्रताप सिंह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

पल्लवी का आरोप- फ्लैट खरीदा मेरे पति ने, बिल्डर ने धोखा दिया
वहीं, पल्लवी पटेल का कहना है कि मेरे पति उस फ्लैट में पिछले तीन वर्षों से रह रहे हैं। 60 लाख में उन्होंने डील की थी, जिसका 50 प्रतिशत वो दे चुके थे। हम पूरा पैसा देने को राजी थे, लेकिन बिल्डर ने कहा कि वो फ्लैट नहीं बेचेगा। फिर हमने अपने पैसे मांगे तो वो धमकी देने लगा। इस दौरान मेरे साथ उसने बदतमीजी भी की थी। इस पर मैंने मई में एफआईआर दर्ज कराई थी। उनके आरोप गलत हैं। हमारे पास सारी बातें आॅन रिकॉर्ड हैं। जांच में सब सामने आएगा।

मामले की जांच करवा रहे : एसएसपी
लखनऊ एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक पंकज त्रिपाठी की ओर से रिपोर्ट दर्ज कर जांच कराई जा रही है। इससे पूर्व पंकज सिंह ने गोमतीनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। छानबीन के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। फ्लैट पर कब्जा करने के मामले में महिला सहित पांच पर कोर्ट के आदेश पर गोमती नगर पुलिस ने रिपोर्ट लिखी है।

admin

No Comments

Leave a Comment