हादसा फतेहपुर में लेकिन मातम जौनपुर, मुंबई से लौटने के फेर में बीबी-बेटी को गंवा बैठा आटो ड्राइवर

जौनपुर। प्रवासी मजदूरों को ‘घर वापसी’ में किन मुश्किलों का सामना करना पड रहा है वह ही जान रहे हैं। मुंबई से लौटने वालों को लेकर तमाम दावें सरकार कर रही है लेकिन जमीनी हकीकत इससे इतर है। मंगलवार की सुबह मोकलपुर (सराय ख्वाजा) गांव में एक हादसे की सूचना पहुंची तो कोहराम मच गया। यहां के रहने वाले मोहर यादव का मंझला बेटा राजन अपनी पत्नी और दो बच्चों को लेकर मुंबई से आटो प लेकर आ रहा था लेकिन परिवार फतेहपुर में हादसे का शिकार हो गया। मौके पर राजन की पत्नी संजू (35) और बेटी नंदिनी (6) की मौत हो गयी जबकि वह खुद छोटे बेटे के संग गंभीर रूप से जख्मी हो गया।

अगले माह होनी थी छोटे भाई की शादी

जौनपुर की आबादी का एक बड़ा हिस्सा मुंबई में रहता है। इन्हीं में एक राजन यादव भी था जो वहां रह कर आटो रिक्शा चलाता था। लॉकडाउन का दो चरण बीत चुका था और घर बैठकर खाने में पूंजू चुकती जा रही थी। छोटे भाई की शादी भी अगले माह 6 जून को होनी थी। लिहाजा राजन ने परिवार के साथ आटो से ही घर लौटने की योजना बनायी। पास के रहने वाले चार अन्य युवक दो बाइक से साथ हो लिये। दोपहर तक सभी घर पहुंचने की उम्मीद में थे लेकिन फतेहपुर के पास रांग साइट से आ रहे ट्रेलर ट्रक ने आटो में जोरदार चक्कर मार दी।

साथियों ने पीछा कर पुलिस को सौंपा

जोरदार टक्कर से आटो दूर जा गिरा और संजू के साथ बेटी काल के गॉल में समा गयी। राजन खुद चार साल के बेटे के संग गंभीर रूप से जख्मी हो गया। बाइक से साथ चल रहे साथियों ने पीछा करते हुए पुलिस को सूचना दी जिस पर ट्रेलर को ड्राइवर समेत धर-दबोचा गया। हादसे की सूचना गांव पहुंची तो कोहराम मच गया। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। परिवार के सदस्य भी फतेहपुर पहुंच चुके हैं। बुधवार को शवों के साथ सबी के आने के आसार हैं।

Related posts