बलिया। सिकंदरपुर थाने में गुरुवार की सुबह उस समय खलबली मच गयी जब पूर्व विधायक व भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य भगवान पाठक अपने समर्थकों संग धरने पर बैठ गए। थाने के सामने धरने पर बैठने का सबब बुधवार को हुई घटना थी जिसमें पुलिस ने एक दर्जन लोगों को हिरासत में लिया था। दरअसल जमीन पर कब्जा कराने गयी राजस्व विभाग की टीम क विरोध करने पर इन लोगों को पकड़ा गया था। शाम तक मान-मनौव्वल का दौर चल रहा था जबकि पूर्व विधायक हिरासत में लिये गये लोगों को छोड़ने के संग एसडीएम सिकंदरपुर राजेश कुमार यादव के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े थे।

बुर्जग महिलाओं के संग मारपीट का आरोप

गौरतलब है कि लखनापार चट्टी (सिकंदरपुर) में बुधवार को विवादित जमीन कब्जा कराने गई राजस्व व पुलिस टीम के सामने पथराव किया गया था। इस बाबत की गयी प्रशासनिक कार्रवाई के क्रम में दर्जन भर लोगों को हिरासत में ले लिया गया था। पूर्व विधायक ने इसका ठीकरा एसडीएम पर फोड़ते हुए आरोप लगाया कि एसडीएम ने देर रात हिरासत में लिये गये लोगों को बुरी तरह मारा-पीटा। यही नहीं 80 से लेकर 50 साल तक की महिलाओं पर भी 307 सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है, जो निंदनीय है। जिला प्रशासन को चेतावनी देते हुए पूर्व विधायक ने कहा कि जब तक बेकसूर लोगों को छोड़ा नहीं जाएगा और उपजिलाधिकारी सिकंदरपुर के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाएगी, तब तक थाने पर धरना जारी रहेगा। बड़ी संख्या में फोर्स थाने पर लगाने के संग प्रकरण के पटाक्षेप का प्रयास चल रहा था।

admin

No Comments

Leave a Comment