मऊ। उनका परिचय भले ही बाहुबली विधायक मुख्तारी अंसारी के पुत्र के रूप में दिया जाता है हो लेकिन पिछले कुछ माह से छवि अलग ही बन रही है। गरीबों-मजलूमों के बीच वह एक ऐसे इंसान हैं जो मदद भी करता है और किसी को इसका आभास तक नहीं होने देता। मंदिर हो मस्जिद, महिला हो या पुरुष सभी को समान भाव से जो कुछ बन सके करने की कोशिश करते हैं। जी हां, अब्बास अंसारी अपनी कुछ अलग छवि बना रहे है। बसपा के युवा नेता ने चार दिनों तक रात में कंबल के साथ रजाइयों का वितरण किया।

1032

नेशनल शूटर का कुछ दूसरा है तेवर

अब्बास अंसारी की पहचान पहले नेशनल शूटर की थी लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में बसपा सुप्रीमो मायावती ने टिकट देकर मैदान में उतार दिया। एक दशक से अधिक समय से पिता के जेल में रहने का कारण अब्बास उनके क्षेत्र तक सीमित रहते थे लेकिन बसपा के स्टार प्रचारक के रूप में अलग पहचान बनी। पिछले दिनों पिता और मां की बीमारी से उबरने के बाद उन्होंने क्षेत्र में गरीबों के लिए कुछ अलग तरह से मदद करने का बीड़ा उठाया। खास यह कि मदद जिसे मिलती है वह जानता है और अब्बास भूल कर भी इसका जिक्र किसी से नहीं करते हैं।

1035

1033

1031

1034

admin

No Comments

Leave a Comment