वाराणसी। बाबतपुर स्थित लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के रनवे पर मंगलवार की सुबह में थोड़ी सी लापरवाही के चलते लगभग 330 विमान यात्रियों की जान चली गयी होती। हलांकि पायलट की सूझबूझ के चलते सभी यात्रियों की जान बच गयी। बावजूद इसके इमरजेंसी ब्रेक लगाये जाने के चलते यात्री काफी परेशान हो गये थे। समूचे मामले की जानकारी डीजीसीए व बीसीएएस को दे दी गयी है। घटनाक्रम के चलते इंडिको का विमान डेढ़ घंटे की देरी से रवाना हो सका। इस बाबत पूछे जाने पर एयरपोर्ट निदेशक एके राय ने स्वीकार किया कि पायलट ने गलती कर दिया था और उसे तत्काल बुलाया गया। बाद में जांच पड़ताल के बाद जाने दिया गया। पूरे मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। विभागीय जांच की जायेगी।

कुछ इस तरह हुआ था घटनाक्रम

विभागीय सूत्रों के मुताबिक मंगलवार को सुबह साढ़े दस बजे इंडिगो एयरलाइंस का विमान 6ई 3175 दिल्ली के लिये उड़ान भरने के हेतु रनवे पर पहुंच गया था और उड़ान भरने हेतु रफ्तार भर दिया। लगभग उसी समय स्पाईसजेट एयरलाइंस का विमान एसजी 705 भी एप्रन से आगे बढ़ा और होल्डिंग प्वाइंट से बढ़ते हुए 10 मीटर तक रनवे की तरफ चला गया। इंडिगो विमान में सवार पायलट ने सामने रनवे पर विमान देखते ही इमरजेंसी ब्रेक का प्रयोग करते हुए विमान को रोक लिया जबकि स्पाइसजेट के विमान का पायलट भी विमान को रोक लिया जिससे दोनों विमान में बैठे सभी लोग बाल बाल बच गये। लेकिन तेज रफ्तार के विमान में इमरजेंसी ब्रेक लगने के चलते इंडिगो एयरलाइंस के विमान में बैठे यात्री भयभीत हो गये। उसके बाद इंडिगो एयरलाइंस के विमान को पायलट वापस ला कर एप्रन पर खड़ा कर दिया। वहीं स्पाईसजेट के पायलट को बुलाकर पूछताछ व जांच पड़ताल करने के बाद दिल्ली जाने की इजाजत दे दी गयी लेकिन इंडिगो के विमान की जांच पड़ताल की गयी। इसके बाद डेढ़ घंटे की देरी से इंडिगो एयरलाइंस का विमान दिल्ली के लिये जा सका।

admin

No Comments

Leave a Comment