आजमगढ़। आधार को लेकर मामला देश की सर्वोच्च अदालत में हैं। अब तक तो इसके जरिये छोटी-मोटी हेराफेरी होतीथी लेकिन जालसाजो ने लापता व्यक्ति के नाम से फर्जी आधार कार्ड बनवाकर कर जमीन मुआवजे मे मिला 96 लाख रुपए हडप लिया। हड़पी गयी रकम राष्ट्रीय राजमार्ग में जमीन चले जाने के कारण मुआवजे के रूप में मिली थी। अनूठे मामले में बैक कर्मचारी और तत्कालीन एसडीएम सहित सरकारी कर्मचारी भी जांव की जद में शामिल हैं। कोतवाली में नवम्बर 2017 में भूमि अध्यपति कार्यालय के बाबू ने मुकदमा दर्ज कराया तो इसका खुलासा हुआ। द्वारा दर्ज कराया गया था। पुलिस ने इस मामले में दो लोगो गिरफ्तार कर लिया है जबकि तीन अभी फरार है।

25

एनएच में जमीज जाने का था मुआवजा

बजाया जाता है कि बुढ़नपुर तहसील क्षेत्र की ग्राम सभा भिलमपुर छपरा में सुग्रीव नामक व्यक्ति की जमीन राष्ट्रीय राजमार्ग में चले जाने से 95 लाख 89 हजार 823 रुपया मुआवजा मिला था। यह व्यक्ति अपनी रोजी रोटी के लिए बाहर चला गया जो अब तक वापस नही आया। इस बीच जालसाजो नें तहसील के अधिकारियो और कर्मचारियों से मिलकर फर्जी सुग्रीव बनकर आधार कार्ड बनवाकर निजी बैंक में खाता खुलवा लिया और मुआवजे की रकम हड़प लिया।

कैश ही नहीं निकाला बल्कि खरीदा सोना

इस सम्बन्ध में पुलिस ने विवेचना शुरू की तो कई तथ्य निकल कर सामने आये आ गये। जालसाजो ने फर्जी कागजात तैयार कर इंण्डिसेंड बैंक से पहली बार में 21 लाख रुपए निकाला। दूसरी बार चेक के माध्यम से टांसफर करके 43 लाख रू0 का सोना खरीदा गया है। समूचे मामले में तत्कालीन एसडीएम सहित कई अन्य कर्मचारियों की भूमिका की जांच जारी है। दूसरी तरफ निजी बैंक की संलिप्तता की जांच की जा रही है।

admin

No Comments

Leave a Comment