देवरिया। जेल में निरुद्ध पूर्वांचल के माफिया को लेकर पीएम मोदी से लेकर सीएम योगी तक कई बार तंज कस चुके है। जेल से आपराधिक साम्राज्य चलाने की शिकायते भी कई बार हो चुकी है। शासन के तमाम दावों की जमीनी हकीकत यहां की जिला जेल में छापेमारी दर्शाती है। एक सप्ताह की अवधि में यहां से 43 मोबाइल के साथ सैकड़ो सिमकार्ड बरामद हो चुके हैं। बाहुबली अतीक अहमद को यहां रखे जाने के बाद से जेल पहले से सुर्खियों में है और 4 से 12 फरवरी के बीच एक दिन के अंतर पर हुए छापेमारी के दौरान हुई बरामदगी से महकमे में हडकंप मचा है। जेल अधीक्षक दिलीप पाण्डेय ने बरामदगी की पुष्टि करते हुए बताया कि इसकी जांच करायी जायेगी। दोषी भले क्यों न बंदीरक्षक हो उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई होगी।

रंगदारी मांगने की शिकायत पर हुई थी छापेमारी

प्रकरण कुछ यूं हा कि बीते जनवरी माह मे देवरिया कारागार मे बंद सुल्तानपुर निवासी एक अपराधी द्वारा सुल्तानपुर के एक व्यापारी से मोबाइल द्वारा रंगदारी मांगी गयी थी। यह खबर संज्ञान में आने के बाद वहं के पुलिस-प्रशासन के होश फाख्ता हो गये। सुल्तानपुर एसपी ने डीएम देवरिया को इस मामले में पत्र लिख कार्रवाई व जांच की मांग भी की थी। अपराधी द्वारा प्रयोग किये नम्बर की लोकेशन भी जिला जेल मिली थी। उस दौरान हुई कड़ाई के बाद कैदी कुछ दिनो के लिये शांत हो गये मगर फिर पुराना ढर्रा शुर हो गया था। जिला प्रशासन के निर्देश पर जेल अधीक्षक दिलीप पाण्डेय की अगुवाई मे 4 फरवरी से 12 फरवरी तक एक-एक दिन अल्टर कर हुई छापेमारी के दौरान 43 मोबाइल व सैकड़ो सिमकार्ड बरामद हुआ है । जिसको जेल अधीक्षक ने नष्ट करा दिया।

जेल में मौजूद है 1600 बंदी

जिला जेल में पूर्वाचल के बाहुबली अतीक अहमद समेत 1600 बंदी निरुद्ध हैं। जेल प्रशासन ने स्वीकार किया कि बगैर बंदी रक्षको के मिलीभगत के यह नहीं आ सकता है। बरामदगी का एक पहलू यह भी है कि इसके बाद से सामान्य मुलाकातियों की मुसीबतें बढ गयी है। अब उन्हे कड़ी जांच से गुजरना पड़ रहा है। जेल में मोबाइल के उपयोग की शिकायते अक्सर मिलती रही है मगर पुख्ता प्रमाण न मिलने से हर बार जेल प्रशासन इन शिकायतो पर पर्दा डालने की कोशिश करता रहा है।

admin

No Comments

Leave a Comment