वाराणसी। लंका थाने से कुछ मीटर की दूरी पर स्थित यूबीआई के एटीएम में मंगलवार की शाम कैश लोड करने के दौरान उचक्को ने वैन से बाक्स पार कर दिया। बाक्स में 26.5 लाख रुपये थे। युवकों को बाक्स लेकर भागते देख कर गार्ड दौड़ा लेकिन उचक्के डिवाइडर पार कर किसी दूसरे वाहन पर सवार होकर भाग निकले। सरेशाम बड़ी वारदात के बाद पुलिस के होश उड़ गये। लंका पुलिस इलाके के सीसी फुटेज खंगालती रह गयी जबकि वारदात की सूचना पर सक्रिय हुए इंस्पेक्टर मुगलसराय ने तत्काल चेकिंग शुरू करा दी। इसका नतीजा रहा कि मैजिक से कैश लेकर जा रहे चार सदिग्ध हत्थे चढ़ गये। कुछ देर के भीतर बरादमगी की सूचना पर आईजी रेंज दीपक रतन समेत आला अधिकारी वहां पहुंचे और पकड़े गये युवकों से पूछताछ शुरू कर दी। दो दिन पहले मुगलसराय से भी कैश वैन से 38 लाख रुपये उड़ाये गये थे और पुलिस पकड़े गये युवकों से उस बाबत भी पूछताछ कर रही है।

767

चद मिनटों में दिया था अंजाम

गौरतलब है कि एटीएम में कैश लोड करने वाली मुंबई की कम्पनी सिक्योर वैल्यू का वाराणसी का काम भोजूबीर के रहने वाले कौशलेंद्र प्रताप सिंह के पास है। उनके कर्मचारी आशीष पांडेय और विपर्व कुमार सिंह चालक मुन्ना लाल सुरक्षा में तैनात गार्ड के साथ लंका स्थित एटीएम में पैसा भरने के लिए मंगलवार की शाम में पहुचे। आशीष व विपर्व सुरक्षा गार्ड गन मैन सतीश यादव,प्रकाश के साथ एटीएम के अंदर चले गए। चालक मुन्ना लाल गाड़ी के समीप खड़ा रहा। उसी दौरान पिछले साइड से दो उच्चके गाड़ी के पास पहुचकर किसी साधन से दरवाजे को खोल कर अंदर रखा एक बॉक्स उठा कर भागने लगे। उच्चकों को भागते देख गार्ड और चालक ने शोर मचाते हुए पीछा किये लेकिन उच्चका डिवाइडर को फांद कर भाग निकला।

पहले बताया संदिग्ध, फिर देने लगे बधाई

वारदात की सूचना मिलते ही मौके पर लंका पुलिस मौके पर पहुचकर जांच में जुट गई। सभी ं कर्मचारियो को हिरासत में लेकर सीओ भेलूपुर पूछताछ करने में जुट गये। पुलिस ने पहले तो घटनाक्रम को ही संदिग्ध करार दिया। बाद में मुगलसराय में बरामदगी की सूचना मिली तो वधाई देने के साथ फौरन मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई होने लगी।

admin

No Comments

Leave a Comment