वाराणसी। विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण की अदालत ने बिजली विभाग में चेकर्ड प्लेटो को ऊची दर पर टेंडर की स्वीकृति देने के मामले में आरोपी उप मुख्य जोनल अधिकारी उपेंद्र कुमार सिंह की जमानत अर्जी मंजूर करते हुए एक एक लाख के दो जमानतदार देने पर रिहा करने का आदेश दिया है। खास यह कि आरोपित अपने पद से 1992 में सेवानिवृत हो गया था। बाद में सतर्कता अधिष्ठान ने जिन आठ लोगों के खिलाफ मुकदमा कायम कराया था उनमें उपेन्द्र कुमार सिंह भी शामिल थे। पिछले 25 जनवरी को चौबेपुर पुलिस ने राजातालाब के पास गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। कोर्ट ने जमानत का आधार पाते हुए रिहा करने का आदेश दिया।

क्या थे आरोप

आरोपित के अधिवक्ता मनीष कुमार वर्मा के मुताबिक 400 केवी सब स्टेशन सारनाथ में चेकर्ड प्लेटो की खरीददारी में विद्युत विभाग के अधिकारियों पर पद का दुरुपयोग कर सरकारी धन का अपव्यय किये जाने की जांच सतर्कता अधिष्ठान ने की थी। इसमें पाया गया कि आरोपी ने कम निविदा वाले के बजाय अधिक निवेदा वाले को टेंडर की संस्तुति देकर आर्थिक लाभ अर्जित किया गया। अभियोजन की तरफ से जमानत का विरोध किया गया था।

admin

No Comments

Leave a Comment