वाराणसी। क्राइम ब्रांच और कैंट पुलिस ने शुक्रवार को मुठभेड़ के दौरान 25 हजारा इनामी इमरान को पिस्तौल के साथ दबोचा तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। अपने साथी की हत्या से लेकर जमीन के विवाद में हत्या की साजिश सरीखी सनसनीखेज वारदातों को अंजाम देने वाला कोई और नहीं बल्कि अभिषेक उर्फ प्रिंस था। खास यह कि प्रिंस ने जिसकी हत्या करायी उसकी रिपोर्ट भी खुद कराते हुए विरोधियों को नामजद कर दिया। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने शुक्रवार को संगोष्ठी सदन में मीडिया के सामने गिरफ्तार आरोपित को पेश करते हुए समूची कहानी सिलसिलेवार सुनायी।

वारदात से पहले कचहरी का चक्कर

गिरफ्तार इमरान ने कबूल किया कि हम लोग बिहार से अवैध शस्त्र कल्लू शर्मा व बीरू तिवारी से मंगाकर बेचने का धंधा करते है। गैंग का लीडर अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस है जो घटना करने से कुछ दिन पहले काली कोर्ट पहन कर दो-चार दिन पुलिस पर दबाव बनाने के लिए कचहरी में घुमता है ताकि पुलिस को इसके काले धंधे के बारे में शक न हो। हम लोग पैसा देकर बिहार के मुंगेर से असलहा मंगाकर बनारस तथा उसके आस पास के जिलों में बेचते है और जो फायदा होता है उसमें हम सभी लोग आपस में बांट लेते है। यह काम हम लोग काफी दिनों से कर रहे है। पिछले साल अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस के घर जो पिंकू अंसारी की हत्या हुई थी उसमें मै भी अपने साथियों के साथ शामिल था। पिंकू अन्सारी की हत्या बिहार से असलहा लाकर बेचने व पैसे की लेन-देन को लेकर हुए विवाद में हो गया था। प्रिंस एक राजभर की जमीन का सट्टा कराये थे जिसको लेकर बनियापुर रजनहिया के बिहारी यादव उर्फ भोली यादव से विवाद चल रहा है जो बस चलाता है। प्रिंस के कहने पर उसी की हत्या करने के लिए हम लोग पहली जून को बनियापुर रजनहिया पुल के पास एकत्र हुए थे इसी बीच आप लोगों से मुठभेड़ हो गयी।

पुलिस टीम को मिलेगा पुरस्कार

गिरफ्तारी और बरामदगी में प्रभारी क्राइम ब्रान्च विक्रम सिंह,एसआई प्रदीप यादव, हे.का. सुमन्त सिंह, पुन्देव सिंह , सुरेन्द्र मौर्य, घनश्याम वर्मा, रामभवन यादव, रमेश तिवारी, श्याम लाल गुप्ता(सर्विलांस सेल) के अलावा इंस्पेक्टर कैंट विजय बहादुर सिंह और उनके हमराही शामिल थे। टीम को एसएसपी की तरफ से पुरस्कृत करने की घोषणा की गयी है।

admin

No Comments

Leave a Comment