डाक्टर कफील अहमद की रिहाई को मुद्दा बनाने की कोशिश, डीएम से मिले बनारस के कांग्रेसी नेता

वाराणसी। सूबे में भाजपा की सरकार बनने के सुर्खियों में आये गोरखपुर के डाक्टर काफील पिछले कुछ समय से राजनैतिक दलों के आकर्षण का केन्द्र बनते जा रहे हैं। प्रदेश की राजनीति में हााशिये पर चल रही कांग्रेस को उनकी रिहाई वोट बैंक को रिझाने का सबब लग रही है। सम्भवत: यही कारण है कि उनकी रिहाई के लिए काांग्रेस की तरफ से आवाज अब उठने लगी है। रासुका की कार्रवाई के चलते रिहाई संभव नहीं जानने के बावजूद राजनीतिक पार्टी के लोग सामने आ रहे है। एसीएम को सौंपा…

Read More

बाहुबली के आरोपों पर भदोही पुलिस का ‘पलटवार’, स्पष्ट शब्दों में कहा कि आरोप ‘निराधार’

भदोही। जिले की राजनीति में ब्राह्मणों का वर्चस्व दशकों से रहा है। कांग्रेस का शासन खत्म होने के बाद सरकार सपा-बसपा की रही हो या भाजपा की। गोरखनाथ पाण्डेय, रंगनाथ मिश्र, राकेशधर त्रिपाठी से लेकर रवीन्द्र त्रिपाठी तक सूची लंबी है। खास यह भी कि ब्राह्मण बाहुल्य सीट से लगातार चौथी बार जीत हासिल करने वाले बाहुबली विधायक विजय मिश्र का इनसे छत्तीस का आंकड़ा रहा है। पहली बार परिवार के साथ विरोधियों का वार झेल रहे विजय मिश्र ने भदोही पुलिस पर तमाम आरोप लगाये लेकिन पलटवार के तहत…

Read More

स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था तेज, कैंट रेलवे स्टेशन समेत संवेदनशील स्थानों के चप्पे-चप्पे की तलाशी

वाराणसी। स्वतंत्रता दिवस को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। आजादी की सालगिरह में किसी तरह की खलल ना पड़े इसके लिए सुरक्षा बल भी मुस्तैद हो गए हैं। वाराणसी में जीआरपी और आरपीएफ के जवानों ने कैंट स्टेशन पर सघन तलाशी अभियान चलाया। आने जाने वाली ट्रेनों के साथ ही प्लेटफॉर्म, सरकुलेटिंग एरिया, पार्सल घर के साथ यार्ड के चप्पे-चप्पे की तलाशी ली गई। दरअसल सुरक्षा के लिहाज से वाराणसी संवेदनशील शहर है। साल 2006 में कैंट स्टेशन पर बम धमाके की वारदात हो चुकी है। इसके साथ ही…

Read More

‘ब्राह्मण कार्ड’ खेलने के साथ बाहुबली विधायक ने दी ‘खुदकुशी’ की धमकी, ‘अपनों’ के विरोध में आने से बढ़ी ‘मुश्किलेंं’

भदोही। ज्ञानपुर के विधायक विजय मिश्र पूर्वांचल की राजनीति में एक पहचाना हुआ नाम है। माफिया डॉन बृजेश सिंह हो मुख्तार अंसारी कभी किसी ने सामने आकर मुखालफत करने की हिम्मत नहीं की। इससे पहले भी वह खुल कर मायावती से लेकर अखिलेश यादव तक से टकरा चुके हैं लेकिन पहली बार वह कानून के ‘शिंकजे’ में गिरते नजर आ रहे हैं। वजह, इससे पहले की हर लड़ाई में परिवार लामबंद होकर साथ रहता था लेकिन इस दफा ब्लाक प्रमुख भतीजे मनीष से लेकर परिवार का एक खेमा विरोध में…

Read More