‘घोड़ा रेस’ में फैजाबाद के सरफराज ने मारी बाजी, फिल्म अभिनेता राजपाल यादव ने विजेताओं को किया पुरस्कृत

वाराणसी। अकोढा गांव (कपसेठी) में स्व.गोपाल सिह की स्मृति मे चल रहे दो दिनी कुश्ती दंगल तथा घुड़दौड़ का समापन रविवार को धूमधाम से हुआ। कार्यक्रम के दूसरे दिन 11 बजे आरम्भ घुड़दौड़ लगभग तीन बजे समाप्त हुई। प्रख्यात हास्य कलाकार राजपाल यादव ने झन्डी दिखाकर की घुडदौड में 36 घोडों ने अपने दमखम दिखाने के लिए रवाना किया। यूपी के साथ बिहार, हरियाणा और झारखंड सहित कई अन्य प्रदेशों के घोडो ने भी अपने दमखम का प्रदर्शन किया। घुड़दौड़ प्रतियोगिता में कुल छह राउन्ड के बाद फाइनल मे छह…

Read More

चर्चित विधायक सुरेन्द्र सिंह ने शरद पवार की तुलना ‘नर्तकी’ से की, उद्धव का निर्णय बताया ‘आत्मघाती’

बलिया। अपने विवादित बयानों के चलते सुर्खियों में रहने वाले बैरिया के भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने महाराष्ट्र सरकार के घटनाक्रम पर तल्ख टिप्पणियां की हैं। महाराष्ट्र ही नहीं केन्द्र में प्रभावी भूमिका निभा चुके एनसीपी प्रमुख शरद पवार की तुलना उन्होंने ‘नर्तकी’ से कर डाली। उनका कहना था कि जैसे एक नर्तकी अपनी बात मनवाने के लिए किसी के साथ कुछ भी कर सकती है वही दशा शरद पवार की हो चुकी है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के दूसरे खेमे से मिलने के निर्णय पर कहा यह आत्मघाती निर्णय…

Read More

पुलिस के निशाने पर चर्चित झुन्ना पंडित का ‘खानदान’, भाई ही नहीं माई को भी किया जेल रवाना

वाराणसी। पिछले माह पंजाब पुलिस के साथ मुठभेड़ में नाटकीय ढंग से गिरफ्तार एक लाख के इनामी रह चुके श्रीप्रकाश मिश्र उर्फ झुन्ना पंडित के घरवालों पर पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। कैण्ट पुलिस ने दिव्यांग दिलीप हत्याकांड व पूर्व प्रधान सथवां राजेश पटेल अपहरण कांड में इनाम घोषित कराया। रविवार को अपने रिकार्ड में 25 हजारा इनामी भाई जय प्रकाश मिश्रा उर्फ मोनू व 20 हजार रुपये की इनामिया मां उषा देवी गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का दावा है कि झुन्ना के अपराधों की दोनों को…

Read More

प्रियंका वाड्रा का ‘ग्रीन सिग्नल’ मिलते ही ‘पुरनियों’ का कांग्रेस से पत्ता साफ, इकाई में बचे विधायक लेकिन आला कमान के यह ‘तेवर’

लखनऊ। दूसरे दलों में आंतरिक ‘लोकतंत्र’ न होने का वास्ता अक्सर कांग्रेसी देते रहते हैं लेकिन खुद पार्टी इससे अछूती नहीं है। इंदिरा और राजीव गांधी के बाद सोनिया के कमान संभालने तक अपनी बात रखने की जो छूट थी वह खत्म होते दिख रही है। इसका ताजा नमूना है पुराने कांग्रेसी नेताओं को थोक के भाव पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने का मामला। भले ही उत्तर प्रदेश में सोनिया गांधी के अलावा खुद राहुल तक चुनाव हार चुके हो और सपा से गठबंधन के बावजूद अंगुली पर गिनने…

Read More