मंड़ुवाडीह रेलवे यार्ड में ट्रेन डिरेल होने से हड़कंप, प्रयागराज जाने वाली ट्रेनें प्रभावित

वाराणसी। मंडुवाडीह रेलवे यार्ड में सोमवार की सुबह शंटिंग के दौरान एक ट्रेन डिरेल हो गई। ट्रेन की एक बोगी के चार पहिये पटरी से उतर गए। घटना की जानकारी होते ही मौके पर रेलवे के अधिकारी पहुंचे। वाराणसी-प्रयागराज रुट प्रभावित ट्रेन डिरेल होने से वाराणसी-प्रयागराज रेलवे रुट प्रभावित हो गया। अपलाइन से ट्रेनों का आवागमन शुरू किया गया। घटना किस वजह से हुई अभी तक पता नहीं चला है। सोमवार की सुबह करीब सवा 9 बजे एक इंजन के साथ 6 बोगी लेकर शंटिंग कर रहा था। तभी ककरमत्ता…

Read More

आरोग्य मंदिर में श्रद्धालु तो कम हजारों की संख्या में आ रहे स्थानीय मरीज, बाढ के बाद मिल रही बड़ी राहत

वाराणसी। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के गेट नंबर चार छत्ताद्वार पर नयति द्वारा संचालित श्री काशी विश्वनाथ आरोग्य मंदिर की स्थापना श्रद्धालुओं को लेकर की गयी थी लेकिन में भारी तादात में स्थानीय लोग भी अपना इलाज कराने आ रहे हैं। दरअसल पिछले दिनों शहर में हुई भारी बारिश के बाद पेट सम्बन्धी बीमारियों गैस्ट्रोएंटेरिस्टिस (दस्त, उल्टी, बुखार और मतली), पैरों में फंगल इंफेक्शन एवं मौसमी बीमारियों के मरीज के लिए यह बड़ी राहत का सबब बन है। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के सीईओ विशाल सिंह ने कहा कि श्रीकाशी…

Read More

दलित किशोरी के संंग दुष्कर्म में ‘मैनेजमेंट’ पर इंस्पेक्टर सस्पेंड, मां ने की एसपी को रजिस्ट्री जिस पर हुई कार्रवाई बड़ी

बलिया। आम तौर पर दलित किशोरी के यौन उत्पीड़न का मामला मीडिया की सुर्खी में आता तब कार्रवाई का सिलसिला आरम्भ होता है लेकिन एसपी देवेन्द्रनाथ ने नयी मिसाल पेश की है। मनियर क्षेत्र में एक किशोरी के साथ दुष्कर्म की शिकायत के मामले में रजिस्ट्री से मिली शिकायत पर एक्शन लेते हुए एसओ मनियर सुभाषचंद्र यादव को लाइन रवाना कर दिया। यही नहीं प्रकरण की जांच एएसपी संजय कुमार को सौंप दी है। फौरी कार्रवाई के तहत आरोपित के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 504, 3/4 पास्को एक्ट एवं…

Read More

बबलू हत्याकांड: परिजनों के आंसू पोछने के लिए जुट रहे ‘चेहरे’ तमाम लेकिन शूटरों का नहीं मिल रहा नामो निशान

वाराणसी। सदर तहसील में नितीश सिंह उर्फ बबलू की दुस्साहसिक तरीके से की गयी हत्या हाल फिलहाल में पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। सरेआम वारदात को अंजाम देने के बाद शूटर्स आराम से फरार हो जाते हैं लेकिन पुलिस एक हफ्ते बाद भी कोई अहम सुराग नहीं ढूंढ पाती है। ट्रांसपोर्ट और लेबर सप्लाई की ठेकेदारी करने वाले बबलू का समाजिक दायरा खासा बड़ा था और इससे जुड़े कारकों को लेकर कई लोग रजिश भी रखते थे। पिछले एक सप्ताह में कोई ऐसा दिन नहीं होगा जब शोक…

Read More