‘मिश्रजी’ हुए भाजपाई, घोषणापत्र जारी होने के साथ राष्ट्रवाद को लेकर की थी कांग्रेस की ‘खिंचाई’

वाराणसी। यूपीए चेयरपरसन की पुत्री और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका वाड्रा भले ही मोदी के खिलाफ काशी में चुनाव लड़ने का ठम ठोंक रही हैं लेकिन जमीनी हकीकत उन्हें भी पता है। कांग्रेस जमीनी स्तर पर संगठन को खो चुकी ही है और इससे जुड़े नेता दूसरे दलों की तरफ रूख कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर अब तक सभी को जवाब देने वाले पुराने कांग्रेसी अरविन्द मिश्र ने रविवार को नई राजनीतिक पारी की शुरूआत करते हुए भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली है।…

Read More

जीत की हो आस तो अच्छे लगते हैं ‘दाग’, कांग्रेस के बाद बसपा ने भी ‘दमदार’ प्रत्याशियों पर जताया विश्वास

लखनऊ। सत्ता पाने की खातिर चुनाव में जीत हासिल करनी होती है और इसके लिए राजनैतिक दल भले दूसरे का दामन दागदार बताते हो लेकिन बात जिताऊ प्रत्याशी की हो तो उन्हें भी ‘दाग’ अच्छे लगे हैं। लोकसभा चुनावों में जीत हालिक कर उत्तर प्रदेश में अपना बजूद बचाने की लड़ाई लड़ रही कांग्रेस को अब न तो अरबों रुपये के एनएचआरएम घोटाले में कोई खामी नजर आती है न ही इसके केन्द्र बिन्दु रहे बाबू सिंह कुशवाहा से गठबंधन करने में। अब तक जिन्हें बाहुबली कह कर कोसती थी…

Read More

आगे बढ़े पुलिस परिवार के होनहार इस खातिर विशेषज्ञों के संग अफसरों ने किया मंथन, कैरियर को लेकर दी टिप्स

वाराणसी। पुलिस लाईन वाराणसी स्थित न्यू अतिथि सभागार में रोजाना मीडिया बीफ्रिंग समेत दूसरे कार्यक्रम होते हैं लेकिन रविवार को वहां बच्चों की भीड़ जुटी थी। बच्चे भी पुलिस परिवार के ही थे। परीक्षाओं का सिलसिला समाप्त होने के बाद कैरियर को लेकर उनकी जिज्ञासाओं के समाधान के लिए विशेषज्ञों की टीम के अलावा चयनित अधिकारी भी मौजूद थे। मौका था वामा सारथी सक्षम और सन्मार्ग यूपी पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन जिसकी चेयरपरसन डीजीपी ओपी सिंह की पत्नी श्रीमती नीलम सिंह हैं के तत्वाधान में पुलिस परिवार के बच्चों हेतु करियर…

Read More

भोला पाण्डेय हुई ‘बीमार’ तो जगी गुरू की ‘आस’, चुनाव लड़ने की खातिर काशी से सलेमपुर नहीं मानी दूरी

वाराणसी। बीएचयू से पले-बढ़े डा. राजेश मिश्र अब तक काशी को अपनी कर्मभूमि मानते रहे थे। स्नातक निर्वाचन से एमएलसी होने के बाद उन्होंने जीत का सिलसिला दोहराया भी था। कई बार से जीत रहे भाजपा सांसद शंकर प्रसाद जायसवाल को पराजित कर सांसद चुने गये लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में राजनीति के नौसिखिया डा. नीलकंठ तिवारी से मिली हार ने उनका विश्वास डगमगाने लगा। भले ही प्रियंका गांधी ने काशी प्रवास के दौरान किसी दूसरे नेता के बदले उन्हें तवज्जो दी हो लेकिन बावजूद इसके उन्होंने दूसरे सेफ सीट…

Read More

मनोज और महेन्द्र का राह में कांटा के लिए कांग्रेस ने लिया ‘कुशवाहा’ का सहारा, गठबंधन के लिए राह होगी आसान!

वाराणसी। केन्द्रीय रेल राज्य और संचार मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) को उनके समर्थक ‘विकास पुरूष’ की संज्ञा देते हैं। अपने संसदीय क्षेत्र गाजीपुर के अलावा पूर्वांचल में भी उन्होंने ट्रेनों पर ध्यान ही नहीं दिया बल्कि अरसे बाद संख्या बढ़ायी। दूसरी तरफ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा. महेन्द्रनाथ पाण्डेय को भी पिछली बार किसी ने टक्कर दी ती वह सपा का प्रत्याशी नहीं बल्कि बसपा का था। गठबंधन ने पूर्व सांसद अफजाल अंसारी को समायोजित करने की खातिर सीटों का फेरबदल कर लिया लेकिन कांग्रेस ने दोनों को रोकने की खातिर…

Read More

शिवपाल के लिए ‘फेमिली फर्स्ट’, डिंपल की तरह अखिलेश के खिलाफ भी नहीं उतारेंगे प्रत्याशी!

लखनऊ। सपा की स्थापना करने में मुलायम सिंह के साथ दिन-रात एक करने वाले शिवपाल यादव पहली बार किसी चुनाव में अकेले हैं। दरअसल कैबिनेट मंत्री रह चुके शिवपाल को भतीजे अखिलेश ने पार्टी में कुछ इस मुकाम पर पहुंचा दिया था कि उनके पास इसे छोड़ने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था। शिवपाल इसके लिए अखिलेश से अधिक चचेरे भाई रामगोपाल यादव को जिम्मेदार मानते हैं जिनके पुत्र अक्षय यादव के खिलाफ वह फिरोजाबाद से चुनाव भी लड़ रहे हैं। बावजूद इसके उनका परिवार से पूरी तरह मोहभंग…

Read More