श्रम की प्रतिष्ठा करती है काशी की संत परम्परा, उन्होंने ने दिया सामाजिक विसंगतियों का निदान

वाराणसी। हमारे देश मे सन्तों ने अपने पदों में एक वैकल्पिक समाज की परिकल्पना की है। चाहे वह रविदास का ‘बेगमपुर’ हो, कबीर का ‘अमरपुर’ हो या फिर तुलसीदास का ‘रामराज्य’ है। संतों का यह नक्षत्र मण्डल हमें सांसारिक आडम्बर से दूर ले जाता है। संत साहित्य में कहीं भी पोथी को महिमा नहीं है। उनके वाणी में सामाजिक संदर्भों के निहितार्थ बदलते रहते हैं। संतों ने आँखों की देखी को जीवन का मार्ग बताया है। समाज के यथास्थितिवाद व उत्तराधिकार के ढोई जा रही गठरी को हटाते हैं। काशीकथा…

Read More

फायरिंग करने वाला मनबढ़ वारदात में प्रयुक्त असलहे और स्कार्पियो समेत चढ़ा पुलिस के हाथ

चंदौली। धानापुर बस स्टैंड के समीप सोमवार की देर शाम सैलून में हुए विवाद को लेकर अंधाधुंध फायरिंग करने वाले को पुलिस ने 24 घंटे बीतने से पहले धर-दबोचा। फायरिंग में एक की मौके पर मौत हो गयी थी जबकि एक अन्य जीवन-मृत्यु के बीच संघर्ष कर रहा है। शेष दो घायलों की दशा फिलहाल खतरे के बाहर बतायी गयी है। आरोपित इसी थाना क्षेत्र के बभनियाव निवासी विकास यादव के पास से एक स्कार्पियो गाड़ी, बुलेट मोटरसाइकिल और लाइसेंसी असलहे के साथ साथ व खोखा-कारतूस के अलावा 48 हजार…

Read More

विरोधियों का नाम लिये बगैर मोदी ने जनता से भरवायी हुंकार, ‘अच्छे कामों’ का विरोध करने वालों पर प्रहार

वाराणसी। पीएम मोदी मंगलवार को अपने संसदीय क्षेत्र काशी में विकास योजनाओं का लोकापर्ण व शिलान्यास के संग दूसरे कार्यक्रम में हिस्सा लेने आये थे लेकिन उन्होंने विरोधियों पर चुन-चुन कर प्रहार किये। एक तरफ जहां रविदास जयंती पर रविदास मंदिर में मत्था टेकने से लेकर लंगर छका तो वहीं काशी के शहीद को नमन करते हुए पुलवामा के आतंकी वारदात की याद दिलायी। मोदी ने देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन वंदे भारत और किसान सम्मान योजना के बहाने विरोधियों का नाम लिये बगैर सही समय पर सबक सिखाने…

Read More