भले राजनीति में चंद्रशेखर की न हो इंट्री लेकिन कई दूसरों की विवादों की नींव पड़ गयी, जल्द शुरू होगा दलित राजनीति का नया अध्याय!

लखनऊ। सूबे के दलित वोटों पर एकाधिकार रखने वाली बसपा प्रमुख मायावती जहां देश के दूसरे राज्यों में पार्टी का विस्तार करने में जुटी हैं तो कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के एक दांव ने उन्हें बेचैन कर दिया। दरअसल प्रियंका गांधी के भीम सेना प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने पर मायावती ने न सिर्फ अमेठी और रायबरेली सीटों को खाली न छोड़ने का मन बना लिया बल्कि अखिलेश के साथ आगामी रणनीति पर भी मंत्रणा की। सूत्रों की माने तो अखिलेश ने कांग्रेस की दो सीटों पर प्रत्याशी खड़ा करने से गलत संदेश जाने का वास्ता दिया लेकिन यह साफ हो गया कि मायावती अब कांग्रेस को लेकर और आक्रामक तेवर अख्तियार कर सकती हैं। इतना तो तय हो गया कि युवाओं में खासी पैठ रखने वाले चंद्रशेखर भले चुनाव न लड़े लेकिन दलित राजनीति को लेकर नया अध्याय शुरू होने वाला है। इसका असर सिर्फ लोकसभा ही नहीं बल्कि अगले विधानसभा चुनाव में देखने को मिलेगा।

राज बब्बर ने मायावती को सुनायी खरी-खरी

प्रियंका के साथ मेरठ जाने वाले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने चंद्रशेखर के साथ मुलाकात को पूरी तरहसे वाजिब ठहराया है। उनका कहना था कि सहारनपुर दलित उत्पीड़न के समय मायावती कहां थी। प्रियंका के चंद्रशेखर से मिलने पर उन्हें आपत्ति नहीं होनी चाहिये। वास्तव में एक बहन अपने भाई से मिलने गयी थी। उस तरह नहं जैसे मायावती भाजपा नेता लालजी टंडन को राखी बांधने के लिए मिलती थी। साझा चुनाव प्रचार का निर्णय तो प्रियंका और चंद्रशेखर को लेना है। सपा-बसपा गठबंधन हमको छोटा समझ कर दो सीट छोड़ा तो हम चार छोड़ देंगे।

पूर्वांचल तक फैल चुकी है भीम आर्मी

बसपा ही नहीं अधिकांश दूसरे राजनैतिक दलों का भी आकलन है कि भीम सेना के असर सहारनपुर या आसपास के कुछ जनपदों में है। हकीकत यह है कि भीम सेना पूर्वांचल तक पांव पसार चुकी है और दलित युवाओं में चंंद्रशेखर का खासा क्रेज है। बसपा की तरफ से किसी दलित युवा का न होना और मायावती का अपने भतीजे को उत्तराधिकारी के रूप में आगे करना इसकी बजह हो सकती है। माना जा रहा है कि प्रियंका ने चंद्रशेखर के बारे में पूरी जानकारी जुटाने के बाद यह कदम उठाया है और साफ है कि कांग्रेस इस बहाने दशकों पुराने वोट बैंक को एक बार फिर से साधना चाहती है।

Related posts